Homeअन्यस्मार्टफोन के इस्तेमाल से बढ़ी रही सर्वाइकल की समस्या

स्मार्टफोन के इस्तेमाल से बढ़ी रही सर्वाइकल की समस्या

स्मार्टफोन के बिना जिंदगी अब अधूरी लगती है, सिर्फ एक स्मार्टफोन हर मर्ज की दवा बन गया है। चाहे फोटो खींचनी हो या फिर ऑनलाइन शॉपिंग-बैंकिंग करनी हो। घंटों का काम मिनटों में एक क्लिक से हो जाता है। समय तो बच जाता है, लेकिन मोबाइल फोन फायदे के साथ-साथ नुकसान पहुंचा रहा है। घर में एक साथ होकर भी कोई किसी के कवरेज एरिया में नहीं होता। रिश्ते भी हकीकत से ज्यादा ऑनलाइन हो गए हैं और इसमें कोई शक नहीं, कि इसका सबसे ज्यादा असर सेहत पर पड़ा है।

एक स्टडी के मुताबिक 43 परसेंट लोगों को हमेशा नोमो-फोबिया यानि मोबाइल खोने का डर रहता है। तो 50 फीसदी लोगों को ‘रिंग-एंग्जायटी’ यानि फोन देर तक नहीं बजने पर घबराहट होने लगती है। 25 परसेंट लोगों को बार-बार लगता है कि उनका फोन बज रहा है। मोबाइल फोन तो स्मार्ट बन गया, लेकिन लोगों ने उसे स्मार्टली हैंडल करना नहीं सीखा। घंटों एक ही पॉश्चर में सेल फोन का इस्तेमाल करते हैं, नतीजा सर्वाइकल प्रॉब्लम काफी कॉमन हो गई है।

रेडिएशन से नर्वस सिस्टम पर तो असर पड़ ही रहा है, बच्चे भी अब देर से बोलना सीख रहे हैं। छोटी उम्र में ही मोबाइल फोन का बेजा इस्तेमाल, बचपन में ही नजर कमजोर कर रहा है, हियरिंग कपैसिटी घटा रहा है, कंसंट्रेशन बिगड़ रहा है, इतना ही नहीं मोबाइल मोटापे की वजह भी बन गया है। टेक्नॉलजी इंसान की सहूलियत के लिए है लेकिन उसका सही फायदा उठाने के लिए आपको भी स्मार्ट बनना पड़ेगा।

43 प्रतिशत लोगों को नोमोफोबिया यानी कि मोबाइल खोने का डर, 50 प्रतिशत लोगों को रिंग-एंग्जायटी यानी कि फोन ना बजने से घबराहट, 25 प्रतिश लोगों को फोन रिंग होने का आभास होना

मोबाइल फोन से दिक्कतें – सर्वाइकल प्रॉब्लम, वर्टिगो, नर्वस प्रॉब्लम, स्पीच प्रॉब्लम, नजर कमजोर, हियरिंग प्रॉब्लम, कंसंट्रेशन बिगडऩा, मोटापा

डिटॉक्स के लिए उपाय – सुबह नोटिफिकेशन ऑफ रखें, उठते ही फोन ना देखें, वर्कआउट जरूर करें, खाने के वक्त नो फोन रूल, परिवार साथ हों तो फोन दूर रखें, ईवनिंग वॉक पर जरूर जाएं, सोने से पहले फोन इस्तेमाल ना करें, मोबाइल को बिस्तर से दूर रखें।

क्या है उपाय – एलोवेरा जूस, हरसिंगार का जूस, निर्गुंडी का जूस, एलोवेरा, गिलोय, अश्वगंधा, अंकुरित अन्न खाएं , हरी सब्जियां खाएं, लौकी फायदेमंद

व्यायाम या योगासन करें – सूक्ष्म व्यायाम, योगिक जॉगिंग, ताड़ासन, तिर्यक आसन, वृक्षासन, गरूड़ासन, सूर्य नमस्कार, उष्ट्रासन, अर्ध चक्रासन, मकरासन, भुजंगासन, शलभासन, धनुषासन, मर्टकासन, पवनमुक्तासनएक पाद उत्तानासन, कंधरासन, सेतुबंधासन, कटि उत्तानासन, चक्रासन।

यह भी पढ़ें :- लहसुन की पत्तियां भी हैं फायदेमंद

RELATED ARTICLES
Continue to the category

Most Popular